वहीं, कांग्रेस सबकी चाहत हरीश रावत सरकार बता रही है. इतना ही नहीं, देहरादून को जोड़ने वाले सभी नेशनल हाइवे में वॉल पेंटिग के जरिए भी ये सभी पार्टियां अपना जोर-शोर से प्रचार कर रही हैं. आचार संहिता की खुलेआम धज्जियां उड़ाने को लेकर निर्वाचन के अधिकारियों का कहना है कि उनकी कार्रवाई जारी है. कांग्रेस और भाजपा दोनों ही पार्टियों पर जुर्माना लगाया जा चुका है. आदर्श आचार संहिता की बात कहने वाले निर्वाचन के अधिकारियों को शायद ये होर्डिंग्स और वॉल पेंटिंग्स नजर नहीं आ रही है, क्योंकि अगर उन्हें ये नजर आते तो शहर में आचार संहिता का मजाक उड़ाने वाली इन पार्टियों और ...और अधिक »
News18 इंडिया Sun, 22 Jan 2017 10:07:47 GMTView
बीते कुछ समय से जो जगह-जगह 'सबकी चाहत, हरीश रावत' के नारे दिखाई दे रहे हैं, वे उसी रणनीति के तहत है. हरीश रावत ने चुनावों की कमान पूरी तरह से अपने हाथों में काफी समय पहले ही ले ली थी और आज वे कांग्रेस का एकमात्र चेहरा बन गए हैं.' इसके उलट भाजपा में मुख्यमंत्री पद के दावेदार तो कई हैं लेकिन इनमें एक भी ऐसा नाम नहीं है जिसपर सभी सहमत दिखते हों. पत्रकार जय सिंह रावत बताते हैं, 'भाजपा में रमेश पोखरियाल 'निशंक', भगत सिंह कोश्यारी और भुवन चंद्र खंडूड़ी ऐसे नाम हैं जो पहले भी मुख्यमंत्री रह चुके हैं और आज भी इस पद की मुख्य दौड़ में शामिल हैं. लेकिन इनमें से किसी एक नाम पर सहमति बनाना ...
सत्याग्रह Sat, 14 Jan 2017 07:10:09 GMTView
SabkiChahatHarishRawat NewsfI0IWghxyv3IuJQttmzRrELPI