Error: Twitter API rate limit reached
न्यूक्लियर सप्लायर ग्रुप (NSG) में भारत की एंट्री की तरफदारी कर रहे अमेरिका को खरी खोटी सुनाई है. चीन की ओर से कहा गया है कि एनएसजी में मेंबरशिप ओबामा का फेयरवेल गिफ्ट नहीं है जो आसानी से दे दिया जाए. बता दें कि बराक ओबामा कुछ दिनों में राष्ट्रपति पद का कार्यकाल पूरा करने वाले हैं, इससे पहले उनकी टीम ने कोशिश की थी कि भारत को इस ग्रुप में एंट्री मिल जाए. हालांकि, चीन कई बार अड़ंगा लगा चुका है. चीन ने क्या कहा? चीनी विदेश मंत्रालय की प्रवक्ता हुआ चुनयिंग ने कहा, ''एनएसजी मेंबरशिप दो देशों के लिए फेयरवेल गिफ्ट जैसा नहीं है जो जिसका आपस में लेन देन कर लें.'' साथ ही चीन ...
आज तक Mon, 16 Jan 2017 09:50:26 GMTView
ट्रंप अभी आधिकारिक तौर पर अमेरिका के राष्ट्रपति नहीं बने हैं। इसके बावजूद चीन के साथ उनकी कड़वी बयानबाजियों और चेतावनियों का सिलसिला शुरू हो गया है। चीन के अखबारों ने सोमवार को अपने संपादकीय में ट्रंप को सीधे-सीधे ना केवल चुनौती दी है, बल्कि सख्त चेतावनी दी है। माना जाता है कि चीनी अखबार वही लिखते हैं जो कि वहां की कम्युनिस्ट सरकार लिखवाना चाहती है। कई बार कूटनीतिक पेचों के कारण जो बात सरकार सीधे नहीं कह पाती, वह अपने अखबारों के माध्यम से प्रकाशित करवाती है। चीन के एक अखबार ने लिखा है, 'अगर अमेरिका की आने वाली सरकार वन-चाइना पॉलिसी को तुरुप के पत्ते की ...
नवभारत टाइम्स Mon, 16 Jan 2017 08:00:42 GMTView
चीन ने ग्वादर बंदरगाह और 46 अरब डॉलर के चीन-पाकिस्तान आर्थिक गलियारे (CPEC) के तहत आने वाले व्यापारिक मार्गों की सुरक्षा के लिए पाकिस्तानी नौसेना को दो जहाज दिए हैं। समाचार चैनल 'डॉन न्यूज' के अनुसार CPEC के समुद्री मार्ग की साझा सुरक्षा के लिए शनिवार को चीन ने अपने दो पोत पाकिस्तानी नौसेना के हवाले कर दिया। पाकिस्तान के अशांत बलूचिस्तान प्रांत में पड़ने वाले ग्वादर बंदरगाह को CPEC के तहत विकसित किया जा रहा है। यह गलियारा पश्चिमी चीन को वाया पाकिस्तान पश्चिम एशिया, अफ्रीका और यूरोप से जोड़ने का काम करेगा। 'हिंगोल' और 'बासोल' नाम के ये दो पोत ...और अधिक »
नवभारत टाइम्स Mon, 16 Jan 2017 02:48:06 GMTView
विश्व आर्थिक मंच (डब्ल्यूईएफ) की एक रिपोर्ट के अनुसार समावेशी विकास सूचकांक में भारत को 60वें स्थान पर रखा गया है। इस सूचकांक में भारत को पड़ोसी चीन व पाकिस्तान से भी नीचे रखा गया है। यह सूचकांक 12 संकेतकों पर आधारित है। इसमें 79 विकासशील अर्थव्यवस्थाओं में लिथुआनिया पहले स्थान पर है। इसके बाद अजरबाइजान व हंगरी क्रमश: दूसरे व तीसरे स्थान पर आए हैं। भारत को इस सूचकांक में 60 वें स्थान पर रखा गया है। हालांकि उसका पडोसी देश चीन (15वें), नेपाल (27वें), बांग्लादेश (36वें) व पाकिस्तान (52वें) स्थान पर है। यानी इनके प्रदर्शन भारत से बेहतर हैं। मंच की 'समावेशी वृद्धि एवं विकास ...और अधिक »
नवभारत टाइम्स Mon, 16 Jan 2017 16:46:39 GMTView
चीन ने PAK को ग्वादर पोर्ट की सिक्युरिटी के लिए दिए 2 शिप; भारत के लिए चिंता. Dainikbhaskar.com | Jan 15, 2017, 18:35 PM IST. Karachi, China two ships to the Pakistan Navy, strategic Gwadar port, China- +1. ग्वादर पोर्ट की सिक्युरिटी के लिए तैनात पाकिस्तान आर्मी की स्पेशल यूनिट तैनात की गई है। नई दिल्ली/कराची.चीन ने पाकिस्तान पाकिस्तान के ग्वादर पोर्ट की सिक्युरिटी के लिए अपने दो शिप वहां तैनात कर दिए हैं। ग्वादर के अलावा इनका इस्तेमाल चाइना-पाकिस्तान इकोनॉमिक कॉरिडोर (CPEC) की सिक्युरिटी के लिए भी किया जाएगा। चीन के इस कदम से भारत की चिंताएं बढ़ गई हैं क्योंकि यह सीधे तौर पर चीन की नेवी ...और अधिक »
दैनिक भास्कर Sun, 15 Jan 2017 13:16:29 GMTView
बीजिंग.चीन और वियतनाम ने अपने मदभेदों को दूर कर साउथ चाइना सी में शांति बनाए रखने को लेकर प्रतिबद्धता जताई है। वियतनामी कम्युनिस्ट पार्टी के प्रमुख गुयेन फू त्रोंग के चीन यात्रा के दौरान जारी एक ज्वाइंट स्टेटमेंट में साउथ चाइना सी में शांति की रक्षा को लेकर प्रतिबद्धता व्यक्त की। चीन की सरकारी न्यूज एजेंसी शिन्हुआ ने दोनों नेताओं के बीच हुई बातचीत को पब्लिश किया है। दोनों देशों ने साउथ चाइना सी में स्थिरता लाने के लिए आपसी तनाव को कम करने पर सहमति जताई है। बता दें कि चीन पूरे साउथ चाइना सी पर अपना दावा करता है जबकि ब्रुनेई, मलेशिया, फिलीपीन्स और ताइवान भी ...और अधिक »
दैनिक भास्कर Sun, 15 Jan 2017 05:18:39 GMTView
अमेरिका और चीन के बीच तल्खियां और बढ़ती नजर आ रही हैं। चीन ने धमकी दी है कि अगर अमेरिका साउथ चाइना सी में उसे घुसने से रोकेगा तो US को बड़े युद्ध का सामना करना पड़ सकता है। ट्रंप प्रशासन में विदेश मंत्री पद के लिए नामित रेक्स टिलरसन की रणनीति के जवाब में यह प्रतिक्रिया आई है। टिलरसन ने गुरुवार को सेनेट की विदेशी संबंधों से जुड़ी कमिटी के सामने अपनी रणनीति पेश की थी। इसमें उन्होंने कहा था कि वह चीन को यह संदेश देना चाहते हैं कि विवादित दक्षिण चीन सागर में उसकी आवाजाही पर रोक लगाई जा सकती है। इसके जवाब में शुक्रवार को चीन के सरकारी अखबार माने जाने वाले 'ग्लोबल ...
नवभारत टाइम्स Fri, 13 Jan 2017 19:36:13 GMTView
दुनिया की दूसरी सबसे बड़ी इकॉनमी कहे जाने वाले चीन के निर्यात में 2016 में बड़ी गिरावट आई है। शुक्रवार को जारी किए गए आंकड़ों के मुताबिक चीन के निर्यात में 7.7 पर्सेंट की बड़ी गिरावट हुई है, जबकि आयात भी 5.5 प्रतिशत कम हुआ है। चीन के निर्यात में यह लगातार दूसरे साल गिरावट है। 2009 में आर्थिक मंदी के दौरान आई गिरावट के बाद यह दूसरा मौका है, जब चीन की इकॉनमी को इतने बड़े झटके का सामना करना पड़ा है। यही नहीं ग्लोबल डिमांड में कमी बने रहने और अमेरिका के साथ व्यापारिक जंग के चलते 2017 में भी यह गिरावट जारी रहने की आशंका है। देखें: यूं ट्रंप तोड़ सकते हैं आपका US जाने का ...और अधिक »
नवभारत टाइम्स Fri, 13 Jan 2017 13:17:42 GMTView
एशिया प्रशांत क्षेत्र में भारत के बढ़ते प्रभाव से चीन तिलमिला गया है। चीन ने इस क्षेत्र के छोटे देशों को धमकी तक दे दी है कि वे बड़े देशों का पक्ष न लें। इस संबंध में चीन ने इसी हफ्ते एक श्वेत पत्र भी जारी किया जिसमें बड़े देशों को भी नसीहत दी गई है। चीन ने एशिया प्रशांत क्षेत्र में सुरक्षा सहयोग को लेकर श्वेत पत्र जारी किया है। इसमें कहा गया है कि बड़े देशों को भी दूसरे देशों की रणनीतिक इरादों को तर्कसंगत तरीके से समझना चाहिए। उन्हें शीतयुद्ध वाली मानसिकता को छोड़ दूसरे देशों के हितों का सम्मान करना चाहिए। पढ़ें: US से खफा चीन ने भारत को दे डाली यह सीख. बता दें कि ...और अधिक »
नवभारत टाइम्स Sat, 14 Jan 2017 03:09:07 GMTView
चीनी मीडिया में छपी खबरों के मुताबिक चीन ने गुरुवार को इलेक्ट्रॉनिक टोही पोत लांच किया। दक्षिणी चीन सागर में मौजूद पेट्रोलियम को लेकर चल रहे तनाव के बीच का चीन का यह बड़ा कदम माना जा रहा रहा है। अत्यधिक विवादित अंतरराष्ट्रीय इलाके दक्षिणी चीन सागर में चीन अपने दावे के साथ और आगे बढ़ता जा रहा है। यानी चीन अमेरिका की चेतावनी के बाद भी अपनी दादागिरी पर अड़ा है। चाइना डेली ने लिखा कि पीपुल्स लिबरेशन आर्मी (पीएलए) अब छह टोही पोतों का संचालन कर रही है। हांलांकिे रिपोर्ट में यह भी कहा गया है कि चीनी सेना कभी भी अपनी क्षमता के बारे में पूरी जानकारी नहीं देती, ...और अधिक »
Live हिन्दुस्तान Thu, 12 Jan 2017 15:33:10 GMTView
Error: Twitter API rate limit reached
China NewsQHCqIYAANBHLsTCix2N7uRdfB